Sunday, February 8, 2009

कुछ पंक्तियाँ, नभाटा के सहयोगियों के नाम...

सुबह गुज़रती और शाम कट जाती है,
मगर हमेशा याद आपकी आती है।

अख़बारों के साथ सुबह दस्तक कोई,
हर दिन मेरा दरवाज़ा खटकाती है।

ख़बरों के ही बीच झरोखे से अक्सर,
कोई शक्ल उभर कर कुछ मुस्काती है।

किसी पृष्ठ पर कहीं चुटीली सी फब्ती,
किसी कलम की कारीगरी दिखाती है।

हर दिन कुछ पन्ने मोहक बन जाते हैं,
मित्रों की प्रतिभा जब रंग जमाती है।

जिनको अक्सर याद किया करते हैं हम,
क्या उनको भी याद हमारी आती है !

-हेमन्त 'स्नेही'
*

6 comments:

विवेक said...

वो शख्स सुना है अब नजर नहीं आता
हर जगह कहती है इधर नहीं आता
क्यों ढूंढते रहे इस जगह, उस जगह
अहसास से पूछो वो किधर नहीं आता

अनुराग अन्वेषी said...

बेशक। ... और बेहद याद आती है।

poonam said...

kyo nahi sir, apki yaad hamesha saath hai, we all miss you, umeed karte hain blog par ye silsila aap yun hi waqt nikal kar jaari rakhenge.
all the very best

विवेक said...

वो शख्स सुना है अब नजर नहीं आता
हर जगह कहती है इधर नहीं आता
क्यों तलाशा उसे इस जगह, उस जगह
दिल से पूछो कि वो किधर नहीं आता

poonam pandey said...

haan sir, hum sab bhi aapko yaad karte hain.

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया रचना है।

जिनको अक्सर याद किया करते हैं हम,
क्या उनको भी याद हमारी आती है !